मुजरा

इन पतंगों ने

बहुत मुजरा किया

दरबार जिसके

वह, अंधेरा खोल

आँचल भर

कहे

अब लौट जाओ।

Leave a Reply