एक सवाल

अगर मैं सुन्दर हूँ|
मुझे प्यार मिला,
स्नेह मिला,
मिल रही है प्रशंशा।

कार्यरत मैं,बेरोजगार नहीं!
मेहनत के बलबूते जी रही|
स्नेह, प्यार ,दुलार ,लाड से,
प्रफुलित हो मैं चहक रही|

इज्जत है,
एहसास पूर्णता का हो रहा|
अगर कल को ये सब ना रहा!
दोगे क्या तब भी इतना प्यार?

सुन लेना तब भी मेरी पुकार,
मैं हर नारी की आत्मा बन,
करती हूँ सबसे एक सवाल|
क्या दोगे तब भी इतना प्यार?

अगर भस्म हो जाए सुंदरता मेरी,
हे पुरुष सत्तात्मक समाज!
स्थान मुझे दोगे क्या तुम??
इस साहित्य धरातल पर|

निखर जाऊँ मैं और अगर!
फिर भी देना इतना ही दुलार,
क्या दोगे तब भी इतना प्यार।

मेरी कलम से
रोशनी यादव

5 Comments

  1. Lalitkuldeep lalit kuldeep 09/08/2015
    • रोशनी यादव रोशनी यादव 10/08/2015
      • Lalitkuldeep lalit kuldeep 10/08/2015
  2. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari"Indwar" 10/08/2015
    • रोशनी यादव रोशनी यादव 10/08/2015

Leave a Reply