जंगल

चीख़ को वनवास ही

केवल नहीं

वनचरों से

युद्ध भी तो

शेष हैं।

Leave a Reply