छाप

जो दबे पाँवों

चले आए

उन्हीं के

चरणतल की छाप

छूटी है

हमारी क्यारियों में

हर कली पर ।

Leave a Reply