अश्रु

इस चेहरे के अक्षर

गीले हैं, सूरज!

कितना सोखो

सूखे,

और चमकते हैं।

Leave a Reply