अभ्यास

भोर का

चिड़ियों की चह्-चह् का

जिन्हें अभ्यास हो

रात्रि का निर्जन अकेलापन

उन्हें

कैसे रुचे ?

Leave a Reply