इश्क़ में जब से ….. / गज़ल / महेश कुमार कुलदीप ‘माही’

इश्क़ में जब से हम गिरफ़्तार हो गए |

पल में जमाने भर के गुनहगार हो गए ||

रूठना नहीं अब मनाना हमें आता है,

पहले से ज़्यादा हम समझदार हो गए ||

ख़बर जो फैली मेरे इश्क़ होने की,

सबकी नज़र में हम बेकार हो गए ||

हँसके जो उनकी तारीफ़ क्या कर दी,

वो कहते हैं हम बड़े कलाकार हो गए ||

जुबान पर रहती थी इंकलाबी बातें कभी,

वक़्त के साथ हम भी बीमार हो गए ||

राहे-महोब्बत का असर तो देखिए ‘माही’,

दोस्त भी दुश्मन भी बेशुमार हो गए ||

:- महेश कुमार कुलदीप ‘माही’
जयपुर, राजस्थान
+918511037804

3 Comments

  1. chirag raja 06/08/2015
    • mkkuldeep महेश कुमार कुलदीप 'माही' 07/08/2015
  2. Lalitkuldeep lalit kuldeep 08/08/2015

Leave a Reply