आँख के मोती / गज़ल / महेश कुमार कुलदीप ‘माही’

आँख के मोती पानी हो गए |

सब किस्से कहानी हो गए ||

दीवार एक खिंची आँगन में,

रिश्ते सब बेमानी हो गए ||

शहर बदले हालात बदले,

वो हमसे कोस कानी हो गए ||

दौलत का रंग भी अजब है,

चढ़ते ही अभिमानी हो गए ||

कोई कंगाल है महोब्बत में,

तो कोई राजा-रानी हो गए ||

‘माही’ रहा जमीं से जुड़कर,

लोग बड़े आसमानी हो गए ||

* कोस कानी – बहुत दूर हो जाना

:- महेश कुमार कुलदीप ‘माही’
+918511037804

2 Comments

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari"Indwar" 05/08/2015
    • mkkuldeep महेश कुमार कुलदीप 'माही' 05/08/2015

Leave a Reply