इतिहास

“क्यों कहते हो बार बार, के बेटा पढ़ लो इतिहास,
बस थोडा कर इंतेज़ार, हम रचने को हैं इतिहास”
-परीक्षित भार्गव

2 Comments

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari"Indwar" 04/08/2015
    • परीक्षित भार्गव परीक्षित भार्गव 04/08/2015

Leave a Reply