* फूल और माली *

प्रातः काल का वेला था
फूलों संग बाग में
माली अकेला था ,
मनोहारी दृश्य देख वह
मन ही मन हरसाया
कापता हुआ हाथ
वह अपना
उसके तरफ बढाया।

फूल झुझलाई भव चढ़ाई
माली संग आँख मिलाई
और बोली चिल्लाकर ,
“मरना है तो मारो
कही और जा कर “।

माली रुक कर
प्यार से बोला
“क्या तुम्हें नहीं पता ,
तुम्हें इस योग्य बनाने में
हमने कितना खुन पसीना बहाया “।

फूल बोली इठलाकर कर
“यह भाग्य दोश है
पूर्व जन्म का योग है ,
मैं जो भी , स्वयं हूँ
किसी के गले में किसी के शिस पर
या
देवों के चरण में रहती हूँ ,
सभी हमें पाना चाहते
अपना प्यार जताना चाहते “।

माली से रहा नहीं गया ,
फूल को फिर समझाया।
“मैं तेरी उचित पोषण
नहीं करता ,
चेहरा तेरा मुरझाया रहता ,
समय से पहले तुझे
तोड़ देता,
यु हीं झड़ जाती
अपना संतती भी
नहीं बढ़ा पाती ,
सर-गल किसी कोने में
बदबु फैलाती।
यह समय की मार है
तुझे पालने को मेरा दिल
लचार है। ”

मैं दूर खड़ा था
सोचने को मजबुर पड़ा था ,
मेरा दिल कहा
यह समय की मार है
जो बाग-बगीच लगाया
उसी को बाहर बिठाया ,
हर माली का यही हाल
सभी फूल बजाय गाल ,
अपना मानना है
पहचान बनाओ
होने का एहसास दिलाओ।

आप जानना नहीं चाहेंगे ?
वह माली और वह फूल कौन ,
मैं आपको बता दु ,
हर माँ-बाप माली
उनके बच्चे फूल
यही है
जीवन का उसूल ।

प्रस्तुतकर्ता नरेन्द्र कुमार

4 Comments

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari"Indwar" 04/08/2015
    • नरेन्द्र कुमार नरेन्द्र कुमार 06/08/2015
  2. नरेन्द्र कुमार नरेन्द्र कुमार 04/08/2015
  3. संदीप कुमार सिंह संदीप कुमार सिंह 05/08/2015

Leave a Reply