दस्तक

मन में करता रहता है दस्तक बार बार
कोई मेरे गीतों को अपने स्वर में ढालता बार बार
तुम ना सही मै ना सही
कोई तो सही आता रहता है यु ही
यह ख़याल मुझे बार बार |
मन में करता रहता है दस्तक बार बार
कोई मेरे गीतों को अपने स्वर में ढालता बार बार

मुझको है तुम्हारा ही ख्याल की
तुम गाओगे मेरे गीत अपने ताल पर
मैं क्यों तुमसे सवाल करू बार बार
कोई मेरे गीतों को अपने स्वर में ढालता बार बार

तुम ने आखिर दी है दस्तक
रात के इस अंतिम पहर पर
मैं भी इंतज़ार करता रहा हूँ
तेरे इस पुकार का
की तुम ही मेरे गीतों का ख्याल हो
मैं तुम्हारे स्वर का ताल हूँ |
ताल और ख्याल के इस मेल पर
बनेगा जो सरगम वह मेरे गीत है
गा उठेगा हर दिल झूम कर बार बार
आता रहता है यह ख्याल बार बार
कोई मेरे गीतों को अपने स्वर में ढालता बार बार |

कनक श्रीवास्तवा

Leave a Reply