अतिथि का स्वागत [गीत]

धन्य भाग्य , हम धन्य-धन्य !
अतिथि आप अधारे मेरे आंगन !!
श्रीमान आपकी स्वागत मे ,
हाजिर है सेवक का तन-मन !!

पावन चरण आप यहां लाये !
पावन मेरी धरा हो जाये !
महक उठे खुशियों से खिलकर ,
राह देखते ये उजडे उपवन !!
धन्य भाग्य , हम धन्य-धन्य !
अतिथि आप पधारे मेरे आंगन !!

सुन्दर फूलों की माल बनाकर !
स्वागत मे मै थाल सजाकर !
टीका कर हल्दी चावल का ,
करूं आपकी आरती बन्दन !!
धन्य भाग्य , हम धन्य-धन्य !
अतिथि आप पधारें मेरे आंगन !!

एकछोटा सा अहसान करें !
मेरी पूजन स्वीकार करें !
मै परोसूं मेवा मिष्ठान ,
छत्तिस भोग भरा पकवान !!
धन्य भाग्य हम धन्य-धन्य !
आप पधारे मेरे आंगन !!

जीवन ज्योति चिराग मिला !
जो सेवा का सौभाग्य मिला !
पाहुन बन कर मान बढाये ,
आप यहां आकर मनभावन !!
धन्य भाग्य हम धन्य-धन्य !
अतिथि आप पधारे मेरे आंगन !!

अनुज तिवारी ” इन्दवार”

One Response

  1. MRITUJNAY 08/02/2016

Leave a Reply