शब्द

जब तक शब्द नहीं मिलते
कविताये लिखी नहीं जाती
बेवजह कलम को कागज़ पर फेरने से क्या होगा
चिंदी चिंदी करके बटोरता हूँ
मेहनत से पुराने लम्हों को
करने को पहचान की कोशिश
उसमे छुपे हुए चेहरे को |
जब तक सलवटे नहीं मिटती
चेहरा पहचाने नहीं जाते
बेवजह उन लम्हों को घूरने से क्या होगा |
कितना खुश रहते है बच्चे
इनका कोई अतीत नहीं
बस्ता है जो ह्रदय में इनके वासनामय वह संगीत नहीं
जब तक उम्र नहीं होती
दुःख साथ नहीं आते
पर बेवजह बचपन का अभिनय करने से क्या होगा |

कनक श्रीवास्तवा