जलन

यह जलन.. है सौगात, पूनम की हो जैसे रात,
तू है अँधेरे में दिये की तरह, क्या हुआ अगर अभी है रात?

जनक म देसाई

Leave a Reply