कविता

अब भी सवेरा होता है वैसे ही
अब भी लोग सुबह टहलने जाते है
एक बेतरतीब सी आवाज़े
अब भी गूँजा करती है कानो में
सूरज अब भी वैसे ही निकलता है
खिली हुई धूप के साथ
काम वाली औरत की कर्कश आवाज़
अब भी गूँजा करती है कानों में
अगर नही है कहीं तो बस तुम नहीं हो..
अब भी लोग आते है
सब ठीक है न,कहने के बाद
बगैर मौका दिए
अपनी परेशानियॊं का पुलिन्दा खोल देते है
अब मै सुनता हूँ उन्हें
बेबस धैर्य के साथ
बस नहीं रहता है तो तुम्हारा साथ
अब भी सूरज ढ़लता है
शाम अब भी होती है
बस घर लौटते वक्त अब कोई नही कहता
आज फिर देर कर दी..
अब भी बेनूर अन्धेरो के जाल बिछे होते है
बस नही होता है उसे काटने वाला तुम्हारा चेहरा ..

Leave a Reply