काश ! वो पल मै भी जी पाता !!

    1. क्या क्या बसता मेरे अंतर्मन में,
      मन की व्यथा तुमसे कह पाता !
      जख्म आज भी ताजा है यादो के,
      काश ! तुमको ये दिखला पाता !!

      समझ सकते तुम मेरा मौन,
      न लबो से मैं कुछ कह पाता !
      नजरो ही नजरो में बाते करते,
      काश ! दिल की किताब पढ़ पाता !!

      जब होता मन दुखी व्यथित,
      आकर तनिक समझा जाता !
      मन की उठती पीड़ा पर जो,
      काश ! प्रीत का मरहम लगा जाता !!

      तुम मेरी प्रीत, प्रेरणा तुम हो,
      तुम ही, दोस्ती की परिभाषा !
      धड़कता है ये दिल तेरे नाम से,
      काश ! तुमको ये समझा पाता !!

      भटक सा गया जीवन पथ पर,
      वो मुझसे राहो में टकरा जाता !
      गाकर प्रेम गीत अपने लबो से,
      काश ! मुझे ढांढस बंधा जाता !!

      कर के तुम से दो बाते मीठी सी,
      इस दिल को सुकून मिल पाता !
      सहलाते मेरी भीगी पलकों को,
      काश ! वो पल मै भी जी पाता !!

      डी. के निवातियाँ ________@@@

4 Comments

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari"Indwar" 27/07/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 29/07/2015
  2. awadhesh kumar 30/07/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 14/08/2015

Leave a Reply