आगे तो बढ ! [हाइकु]

राह देखती ,
तेरे इन्तजार मे ,
राहें भी आज ! १ !

आगे तो बढ !
हौसला है तुझमे ,
कदम बढा ! २ !

कन्धे पे जमीं !
आसमान पैरो पे ,
अब दे झुका ! ३ !

दम तोड दे ,
पवन घुटन से ,
गर चाह ले ! ४ !

ऐसी तपन !
जल भी जल जाये ,
गर चाह ले ! ५ !

सूरज को भी !
प्रभा को ताकने की ,
फुर्सत ना हो ! ६ !

घूमना चाहे !
धरती धुरी पर ,
जुर्रत ना हो ! ७ !

हौसला रख !
आग की औकात क्या ,
तुझे जला दे ! ८ !

बस फासला !
चादं हिन्दुस्तान मे ,
दो कदम का ! ९ !

रख हौसला !
अपने जिगर मे ,
आजमाने का ! १० !

मुझे पूरा विस्वास है की ये हाइकु रचना आप सब पाठको को पसन्द आयेगी क्रिपया आपकी प्रतिक्रिया दे मुझे अवगत करे !!

रचनाकार — अनुज तिवारी