हमेशा

दु:ख हमेशा
नहीं आता
दुश्मनों की दहाड़ में
दोस्तों की हथेलियों की
मद्धम दस्तक-सा भी
छूता है द्वार
कभी कभी.

Leave a Reply