सुबह

उनींदी पलको में
दबा हास
झुकी आँखों में

दबी लाज दिखा जाने को
कैसा तत्पर है

Leave a Reply