हित वाणी -3

1 कड़वाहट तो दिल में बसे ,और रसना पर मिठास
कहे हित, ऐसे इंसान का मत करियो बिस्वास

2 गलत राह पर जो ले चले, ऐसे मिले कई इंसान
कहे हित, ऐसे दोस्त और दुश्मन, होते एक समान

3 दूसरे की ख़ुशी में खुश रहे, मिला न कोई एक
मौके की तलाश वाले, मिले भीड़ में अनेक

4 प्रिय और प्रियतमा का पयार भी, अब बीते दिनों की बात
पैसे के तराज़ू पर अब, तोले जाते हैं जज़्बात

5 विष तो सब में भरा, दिए अमृत न दिखाई
कहे हित, कलयुग में कहाँ मिले, राम भरत से भाई

6 मीठा मीठा बोल कर, जो अपना काम निकलवाए
दुनियादारी में वो ही, महापंडित कहलवाये

हितेश कुमार शर्मा

3 Comments

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari 17/07/2015
  2. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari 17/07/2015
    • Hitesh Kumar Sharma Hitesh Kumar Sharma 20/07/2015

Leave a Reply