संत्रास

संत्रास यही
कि मोह
नहीं छूटता
कुछ भी नहीं का

Leave a Reply