मेरी ओर से ही

डोर डाली तो बिंधने को
चली आईं मछलियाँ
डोर खींची
तो न पानी
न दरिया
न मछलियाँ

Leave a Reply