शायर !! सुर छेड दिये …….

सुर छेड दिये हमने अपने ,
जो धधक रहे थे इस दिल मे !
कातिल मुखडो से भरी हुई ,
दिल वालो की उस महफिल मे !!

एक शायर इस पार खडा ,
एक शायर उस पार खडा !
शायर ने जब शेर किये ,
शब्दो को चकनाचूर किये !!

सुर से सुर की सौगात हुई ,
फिर धुआधार बरसात हुई !
घायल हो हो कर प्राण चले ,
जब वाणी से तीर कमान चले !!

सुर दुल्हन से सजे हुए ,
जजबातो की एक डोली मे !
रन्गे हुए थे हर मुखडे ,
मुखडो के सुर की होली मे !!

महफिल मे चान्द से मुखडे थे ,
पर मुखडे उखडे उखडे थे !
शायर के हर मुखडे मे ,
भावो के टुकडे-टुकडे थे !!

मुखडो के कायल मुखडे भी ,
मुखडे से घायल मुखडे भी !
मुखडे से मुखडे टकराते ,
मुखडे के टुकडे हो जाते !!

मुखडे के हर मुखडे ने ,
मुखडो को झकझोर दिये !
मुखडे के जजबात यहा ,
मुखडे से भाव विभोर हुए !!

मुखडे की हालत कुछ ऐसी ,
मुखडे मे फर्माया था !
टकटकी लगा हर मुखडा ,
मुखडे पे गौर जमाया था !!

मुखडे पे मुखडे फेक रहे ,
मुखडे से मुखडे फेक रहे !
सुर चिपक रहे उन मुकडो मे ,
मुखडे मुखडे को देख रहे !!

मुखडा मुखडे का प्यासा ,
मुखडे से मुखडे की भाषा !
uuh
अनुज तिवारी
In process

11 Comments

  1. SONIKA sonika mishra 13/07/2015
    • Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari 13/07/2015
  2. डी. के. निवातिया dknivatiya 13/07/2015
  3. डी. के. निवातिया dknivatiya 13/07/2015
  4. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari 13/07/2015
  5. रकमिश सुल्तानपुरी राम केश मिश्र 16/07/2015
  6. रकमिश सुल्तानपुरी राम केश मिश्र 16/07/2015
  7. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari 16/07/2015
  8. SONIKA SONIKA 16/07/2015
  9. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari 16/07/2015
  10. SONIKA SONIKA 16/07/2015

Leave a Reply