हित वाणी -1

१ दो पल की खबर नहीं, कब ज़िंदगी वेबफाई कर जाये
सफर हैं नेकी का तो , मौत भी मेहबूबा बन जाये

२ रसना तो रस की प्यासी, रहे नीम से दूर
नीम वैद ऐसा , ज्यों हीरों में कोहिनूर

३ कर्म तो करना पड़े, सुख हो या दुःख
मानस जनम मिला तो, न हो खुदा से विमुख

४ सपना तो सपना है, तू हक़ीक़त को पहचान
ये दुनिया तेरा घर नहीं, तू यहाँ मेहमान

५ नेकदिल की कमी यहाँ , मिले ढोंगी भरपूर
पूजे जाते जहाँ बेईमान, ये है कलयुग का दस्तूर

हितेश कुमार शर्मा

6 Comments

  1. SONIKA SONIKA 10/07/2015
    • Parveen 10/07/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 10/07/2015
  3. Hitesh Kumar Sharma Hitesh Kumar Sharma 12/07/2015
  4. Hitesh Kumar Sharma Hitesh Kumar Sharma 12/07/2015
  5. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari 18/07/2015

Leave a Reply