तुम फौजी की बीबी हो…….

तुन्हे नाज होना चाहिये ,
तुम फौजी की बीबी हो !!

सेना मे सरहद पर ,
हमने टकराया तलवारो से !
फौलादी सीना अडा दिया ,
गोली की बौछारो पे !!
हस कर लान्घ गये रास्ते ,
जब मौत खडी थी सामने !
मौत को भी मात दी
कहा आना बाद मे !!

दिल पे आग होना चाहिये !
तुम्हे नाज होना चाहिये ,
तुम फैजी की बीबी हो !!

मेरा कौम ये मुल्क मेरा ,
जब-जब कुर्वानी देता है !
तुम तिलक बना सिन्दूर का ,
मेरे माथे पे लगा कर भेजा है !!
चट्टानो सा हौसला ,
तुम हिम्मत भरती सासो मे !
जन्नत की ये जिन्दगी ,
काटी तुमने वीरानो मे !!

तेरे सर पे ताज होना चाहिये !
तुम्हे नाज होना चाहिये ,
तुम फौजी की बीबी हो !!

लोग अमर हुये धरा मे ,
होठो से अम्रित पाने पर !
हम फौजी यहा अमर हुये ,
सीने मे गोली खाने पर !!
तुम्हे कसम लेनी होगी ,
तुम आसू नही बहाओगी !
“जय हिन्द ” का नारा देते ,
मेरे मैय्यत पर आओगी !!

तुम्हे आज नही रोना चाहिये !
तुम्हे नाज होना चाहिये !
तुम फौजी की बीबी हो !!

(रचनाकार – अनुज तिवारी )

4 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 10/07/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 10/07/2015
  3. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari 10/07/2015
  4. नरेन्द्र कुमार (Narendra kumar) 11/07/2015

Leave a Reply