पहाड़ों पर बर्फ़

पहाड़ों पर बर्फ़

दिनों की गर्जन उपरान्त
सहसा ही
हल्के काले बादलों ने
नीले आकाश को छाकर
मौन साध लिया
इस चुप्पी को
किसी अनिष्ट का संकेत मान
सहमी पवन रुकी रह गई
तभी…
हेमंत के प्रांगण में
अजान किसी क्रीड़ा-प्रेमी ने
सफ़ेद गुलाब की
ढेरों पंखुड़ियाँ बिखरा दीं.

श्यामल मिट्टी
अपनी उजलाई पर रीझ
हँस पड़ी
पवन आश्वस्त हो
चल दी / बादल को साथ लिए
और हँस कर सूरज ने देखा
मुग्ध किरणें , हिमकणों को
चूम रही हैं.

Leave a Reply