तेरे शहर में

तेरे शहर में
तेरे शहर में कुछ तो हुआ था,
तूने कहा था मैंने सुना था |
धोखा नहीं था,
सच ये यही था ||
तेरे शहर……..
ख्वाबो का बहाना, बनके दीवाना |
आया था कही से,
उलझा फ़साना ||
तेरे शहर…….
शाम के बादल, यू चल दिए थे,
आंसू हमारे संग ले उड़े थे |
ठहरे से थे हम, बहके से थे हम ,
बनके नदी हम, बहते नहीं थे हम ||
तेरे शहर…..
….सोनिका मिश्रा

One Response

  1. sushil sushil 08/10/2015

Leave a Reply