बना लो ऐसी तक़दीर //शायरी//

[1]
तक़दीर ही क्या बदली तुमने
इस जहां को ही बदल डाला
दुल्हन की तरह सजाते -सजाते
जहां को ही खंडहर बना डाला
[2]
किस्मत को अपने साथ लेकर चलो
उमंग-उत्साह के साथ आगे बढ़ो
कब मौत की पैगाम आ जाये
तन पर कफ़न ओढ़कर तुम चलो
[3]
काँटा है जहां फुल भी होगा
गम है जहां खुशियाँ भी होगा
कर लो सारा जहां मुट्ठी में
न जाने ये कदम फिर कहाँ होगा
[4]
ढूंढेगा जमाना तुम्हे
बन जाओ ऐसी तस्वीर
याद करे जमाना तुम्हे
बना लो ऐसी तक़दीर
[5]
सपनो का संसार
न कर ज़िन्दगी अंधकार
सुहाना शाम डूबा जा रहा
तू सागर के उस पर

One Response

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari 06/07/2015

Leave a Reply