तुम हँस सके

विध्वंस के कगार पर
स्तब्ध खड़ी
सेनाओं के मध्य
तुम हँस सके
मैं इसी से मानती हूँ कृष्ण!
तुम अवतार थे
मनुष्य नहीं थे
प्रभु थे

Leave a Reply