फूल ने कहा ( हाइकु)

फूल ने कहा !
मुझे जीने का ढन्ग
मौत से मिला !!

डाल से टूटा !
हन्सकर वोला वो
आरा ने लूटा !!

अच्छाई बुरी !
दुनिया महकाई
फिर भी छुरी !!

मेरे अपने !
रोये गिडगिडाये
हाथ फैलाये !!

पीर पराई !
ना कोई पहचाने
ना कोई जाने !!

अनुज तिवारी

2 Comments

  1. Dushyant Patel 05/07/2015
  2. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari 05/07/2015

Leave a Reply