खाद पानी मिट्टी

खिले हुए सुन्दर फूलों की मिल्कियत
दंभ उसका
पीले कमज़ोर
तो पराजित
मुँह चुराते नाराज़
रंग गंध के मेलों का
सिरजनहारा
पालक
दृष्टा
पुरुष

और दोनों ही के लिए
खाद -पानी हो
मिट्टी होती
खिलने में खिलती कम
मुर्झाने में मुर्झाती
ज़्यादा
औरत.

Leave a Reply