पत्थर न बन जाना (गजल)

हम दिल की बाते सारी कैसे वया करे ।
तुम गैर पे हो फ़िदा चुप कैसे रहा करे ।

तेरी तलब तो दिल में लड़कपन से है ।
पर दोस्तों से झूठी प्यार कैसे जल्फा करे ।

अजनबी बन रहते है तुम्हारे दिल के पास ।
हमदर्द मेरे बताओ तुमबिन कैसे गुजारा करे ।

तुम न समझ लो बच्चो की कठपुतली मुझे ।
तेरी हर नादानियाँ को हम कैसे अनदेखा करे ।

तुमबिन ज़िन्दगी मेरी रेगिस्तान सी लगती है ।
तन्हाई की धुप से सनम कैसे बचा करे ।

सब लूट के कहती हो भूल जाओ मुझे ।
दिल मानता नहीं गैर पे कैसे मरा करे ।

पत्थर न बन जाना देना जवाब खत की ।
ऐसे ही तुम्हे रानी बनाकर कैसे रखा करे ।

“दुष्यंत पटेल”

One Response

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari 05/07/2015

Leave a Reply