सुना-सुना है अब गाँव

कोयल हो गई गुम
कौआ नहीं करता काँव
आँगन में उदासी छाई
सुना-सुना है अब गाँव

सुख गई है नदी
टूटी पड़ी है नाव
पनघट भी वीरान है
नहीं कुदरत की ताव

न शाम सुहानी है
उजड़ गया अमवा गाँव
राहगीर ढूंढ़ते फिरते है
बरगद-पीपल की छाव

न बरगद की झूला
न नीम की छाव
रंग बसंत की यहाँ
नहीं पड़ता अब पड़ाव

बगीचे में गुलजार नहीं
न पंछियो की शोर गुल
काली घटा सावन बरखा
गाँव की राह गई भुल

3 Comments

  1. vaibhavk dubey vaibhavk dubey 29/06/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 29/06/2015
    • Dushyant Patel 29/06/2015

Leave a Reply