* भला-बुरा *

कौन भला है
कौन बुरा
समय की है
यह बात
नीति रीती बदल जाती
देख लोगो की
औकात।

फूल भली है
शूल बुरा
समय की है
यह ताक
एक समय
नागफनी भी
आती है काज।

लोग भले हैं
जाती बुरी
सोच की है यह विसात
बिन जिनके लोग
पाख न हो
फिर क्यों करे
ए ऐसी बात।

4 Comments

  1. Bimla Dhillon 29/06/2015
    • Narendra kumar 29/06/2015
      • gaurav 01/07/2015
        • नरेन्द्र कुमार (Narendra kumar) 08/07/2015

Leave a Reply