कौंध

चांदनी-सी नहीं पसर जाती
घास-मिट्टी पर ख़ुशी
जुगनू-सी कौँधकर हवाओं में
लुप्त हो जाती है

Leave a Reply