असल में

आदमी असल में
एक घोड़ा
सवार बिठाए बिठाए
न भी दौड़े
एक काठी तो
बिँधी ही रहती है
उसकी माँस-मज्जा से.

Leave a Reply