बहुत सेक चुके बातो पर रोटि

बहुत सेक चुके बातो पर रोटि अब कर्य पे बल होगा
जिसकि नीयत देश हित की उसके साथ ही जन होगा
वादे करना सोच समझ कर सकल पूरा करना होगा
विश्वास टूटि जो जनता रूठी मतदान प्रहार प्रबल होगा
बहुत …………..
जात पात की बात न करना ये सब चाल पुराना हैं
भारत वासि हैं सिर्फ भारत वासी ये ही जात हमारा हैं
सुरक्छा विकाश कि बात करो तुम ये ही सिर्फ अहम होगा
भष्टाचारी , दुराचारि ,अहंकारी न सहन होगा
बहुत…………..
किसी नारि बेटि का दोषी चैन सकून जीयेगा नहि
दिलाना होगा एहसास तुम्हें गरीब का दिल टूटेगा नहिं
हर कर्य की पारदर्शिता सुनिशचित सरल सुलभ होगा
हर दफ्तर में फैलि सुस्ती अनसुनि दूर सम्भव होगा
जिसमे ये सब करने की ताकत वहि नेता अहम होगा
बहुत……………..

Leave a Reply