लंदन में बिक आया नेता

लंदन में बिक आया नेता, हाथ कटा कर आया ।
एटली-बेविन-अंग्रेज़ों में, खोया और बिलाया ।।

भारत-माँ का पूत-सिपाही, पर घर में भरमाया ।
अंग्रेज़ी साम्राज्यवाद का, उसने डिनर उड़ाया ।।

अर्थनीति में राजनीति में, गहरा गोता खाया ।
जनवादी भारत का उसने, सब-कुछ वहाँ गवायाँ ।।

Leave a Reply