चमचागीरी-77

चमचा ऐसा चाहिए जो गुपचुप आग लगाये;
खुद को ले बचाये किन्तु औरों को दे फंसाये.

Leave a Reply