गीत -कीर्ति मैं गाता रहूँ हनुमान की |

कीर्ति मैं गाता रहूँ हनुमान की |
अंजनीसुत वीर वर बलवान की ||

कार्य करते केसरीसुत नित नये |
राम जी के दूत बन लंका गये ||
है परम पावन कथा भगवान की ||

वाटिका को कर दिया विध्वंश था |
रौद्र कपि से भीत निश्चर वंश था ||
देख बल हर्षित हुई थी जानकी ||

राम की निंदा जो’की दसशीश नें |
लंक धू धू कर जलाई कीश नें ||
शक्ति दिखला दी शिवम् प्रतिमान की ||

बच गए संजीवनी पीकर लषण |
युद्ध जीते राम जी सीता रमण ||
है बड़ी महिमा कपीश्वर ध्यान की ||

आचार्य शिवप्रकाश अवस्थी
9412224548

2 Comments

  1. rakesh kumar rakesh kumar 04/06/2015

Leave a Reply