चमचागीरी-63

चमचा ऐसा चाहिए जो गुपचुप आग लगाए:
खुद को ले बचाय और औरों को देय फँसाय.

Leave a Reply