भाग दो : शायद वो सिर्फ एक सपना ही होगा

भाग दो : शायद वो सिर्फ एक सपना ही होगा
Wo unchi imarat mai karyalay ki chah, वो ऊँची ईमारत में कार्यालय की चाह
Wo bhatakti chamakti shahro ki rah. वो भटकती , चमकती शहरो की राह
Nayee disha mili jeewan ko mere, नयी दिशा मिली जीवन को मेरी,
Ek dost ka yu haath thaam lene se wah. एक दोस्त का यु थाम लेने से वाह!

Nayee umeedo ka daur yu aaya नयी उम्मीदो का दौर यु आया
Wo dost mera kuch eisa kar paaya वो दोस्त मेरा कुछ ऐसा कर पाया
Meri khud garji ne mara hai usko मेरी खुदगर्जी ने मारा है उसको
Kyo usko rulaya kyo usko sataya. क्यों उसको रुलाया क्यों उसको सताया

Saswat prem ki akansha thi lekin सास्वत प्रेम की आकांशा थी लेकिन
Wo unchi imarat ki mahtwakansha thi lekin वो ऊँची ईमारत की महत्वकांशा थी लेकिन
Wo bakt bhi chhoota wo dost bhi rootha वो बक्त भी छूटा, वो दोस्त भी रूठा
Eisi kabhi na meri mansha thi lekin ऐसी कभी न मेरी मंशा थी लेकिन

Kuch sahte gaye aur kuch kahte gaye कुछ सहते गए और कुछ कहते गए
Hum to bas khamoshi mai hi rahte gaye.. हम तो बस ख़ामोशी मे रहते गए
Kuch socha na samjha bas u hi कुछ सोचा न समझा बस यु ही
Ek matra sparsh mai hi bahte rahe एक मात्र स्पर्श मे ही बहते रहे

Tha bandhan ka vish, gyan ka bardan था बंधन का विष, ज्ञान का वरदान
Sansaar mai fir bhi sabko dekha samaan संसार मे फिर भी सबको देखा समान
Wo jyot tere prem ki alag thi sabse वो ज्योति तेरे प्रेम की अलग थी सबसे
Tujh mei hi sirf dekha mera bhagwan. तुझ मे ही सिर्फ देखा मेरा भगवान

Tum saath mere har kadam pe hoge, तुम साथ मेरे हर कदम पर होगे
Bhatkoo kabhi mai to margdarshan karoge. भटकू कभी मैं तो मार्गदर्शन करोगे
Meri rooh mai saanso ka sanchar karke मेरी रूह मई साँसों का संचार करके
Khushiyo ke ashru se, chakshuo ko bharoge. खुशियो के अश्रुओ से चक्षुओ को भरोगे

WO DOST KYA AAJ BHI MUJHKO PAAKAR वो दोस्त क्या आज भी मुझको पाकर
SNEH SE APNE GALE SE LAGAKAR स्नेह से अपने गले से लगाकर
KAHEGA KI EK SANSAAR APNA BHI HOGA कहेगा कि एक संसार अपना भी होगा
SAAYAD WO SIRF EK SAPNA HI HOGA!!! शायद वो सिर्फ एक सपना ही होगा

hindifriendshipscrap20up8

One Response

  1. Ghazipur 02/06/2015