सत्ताधारी शासक

दुनिया के अलग अलग हिस्सों में
जनता शासको के अत्याचार से परेशान है
सीरिया पर भी संकट के बादल है
ज़िन्दगी बदहवाश है
मासूम माँ और बच्चे हिंसा से त्रस्त है
सडको और रेल की पटरी पर
सरकारों ने डाला आरक्षण का जाल है
भूखे पेट सोती जनता है और शासक मस्त है
सता का तमाशा चलता है
अपनी अपनी बीन बजाते शासक है
सत्ता के दरबार में जनता का बना तमाशा है
अच्छे शासक अच्छे दिन के दावे करते है
पर किसानों के बच्चे भूखे है
सडको पर सोता बचपन है
आशा भरी निगाहे अपनी जिंदगी
के अर्थ तलाशती है
आज भी 19.4 करोड़ लोग
भारत में भूखे सोते है
मार्क्सवाद आज सच सा लगता है
सतासीन शासक सब्सिडी वाला
ससंद में खाना खाकर
सेल्फी क्लिक करते है
सूट बूट की खबरे अखबारो
में छपती है

Leave a Reply