चमचागीरी-59

चमचागीरी की महिमा अनंत है ;
कियूंकि इसका का न कोई प्रारम्भ है और न कोई अंत है.

Leave a Reply