चमचागीरी -54

न चमचागीरी की कमी है न हरामखोरी के टोटे हैं;
जब तक दुनिया में चम्चेरूपी बेपेंदी के लोटे हैं.

Leave a Reply