अकेले में फगुआ

मोरि उचटलि नींद सेजरिया हो

करवट-करवट राति गई।
ना कहुं मुरली ना कहुं पायल

झन-झन बाजै अन्हरिया हो

ना कहुं गोइयां ताल मिलावैं

बेसुर जाय उमरिया हो

करवट-करवट राति गई।
कहवां मोहन कहां राधिका

ब्रज की कवनि डगरिया हो

कहवां फूले कदम कंटीले

कवनि डारि कोइलरिया हो

करवट-करवट राति गई।
एकला मोहन एकली राधिका

भौंचक बीच बजरिया हो

एकली बंधी प्रीत की डोरी

लेत न कोऊ खबरिया हो

करवट-करवट राति गई।
ऊधो तोहरी रहनि बेगानी

एकली सारी नगरिया हो

देहिं उगै जइसे जरत चनरमा

हियरा बजर अन्हरिया हो

करवट-करवट राति गई।
रहन कहौ यहि देस न ऊधो

हमरी जाति अनरिया हो

राही हम कोउ अगम देस कै

चलब होत भिनुसरिया हो

करवट-करवट राति गई।
मोरि उचटलि नींद सेजरिया हो

करवट-करवट राति गई।

Leave a Reply