मानव -सेवा

ईश्वर को सब पूजते, जाते मंदिर धाम l
मात-पिता के चरणों में, बसे है चारों धाम l
उनकी सेवा मात्र से,प्रसन्न हो भगवान l
जन्म सफल हो जायेंगे,करो यदि ये काम ll

मानव सेवा जो करे, वो सदा सुख पाएं l
मन की शांति उसे मिले, जन्म सफल हो जाएं l
भूखे को रोटी खिला, प्यासे को दो पानी l
उनके आशीर्वाद से, कभी न हो तुझे हानि ll

ईश्वर को सब पूजते, जाते मंदिर धाम l
मात-पिता के चरणों में, बसे है चारों धाम l

नारी है नारायणी,जो दे उसको मान l
लक्ष्मी घर विराजेंगी,भरे उसके धन-धानl
नारी के इस रूप में, देवी का रूप समाये l
इनकी सेवा मात्र से, कोई विघ्न न आये ll

ईश्वर सब के अंदर, रहता है विधमान l
मानव सेवा जो करे , दर्शन दें भगवान l
मंदिर जाओ या तुम, कर लो चारों धाम l
बिन मानव सेवा के, अधूरे है ये काम ll
बिन मानव सेवा के, अधूरे है सब काम ll

One Response

  1. gyanipandit 21/05/2015

Leave a Reply