आज भी दीप जलाता हूँ

ग़ज़ल भी उसी की कहता हूँ
सरगम उसी की गाता हूँ
रह गयी जो अधूरी सी वो
कहानी हर बार सुनाता हूँ

कहते हैं वफ़ा पागलपन है
क्यूँ झूठे ख़्वाब दिखाता हूँ
पर उनके छूए पत्थरों से
रोज़ बहुत बतलाता हूँ

जो गुज़र गए वो लौटते नहीं
क्यूँ बार बार दोहराता हूँ
मैं हूँ की गुज़रे क़दमों पर उनके
आज भी दीप जलाता हूँ

Leave a Reply