खुले आसमान के नीचे जिंदगी मर्जी या मज़बूरी

बड़े शहर के फूटपाथ पर जिंदगी बिखरी है
खुले आसमान के नीचे जिंदगी मर्जी या मज़बूरी
बड़े शहर के फर्श पर नंगी जिंदगी बिखरी है
भूखे पेट खुले आसमान के नीचे जिंदगी मर्जी या मज़बूरी
इंसान कहता है कि मैने तरक्की बहुत कि
पर खुले आसमान के नीचे जिंदगी मर्जी या मज़बूरी या तरक्की
रोज मेहनत करता और खुले आसमान के नीचे सोता मर्जी या मज़बूरी

Leave a Reply