झोपडी से

झोपड़ी से होती हुई महलों तक गई
हौसलों की टोलियां थी मंजिलों तक गई

लाख गर्दिशें आती रही मझदार में तो क्या
कस्ती आखिर एक दिन शाहिलों तक गई

आधी रात को तनहाइयों में गीत जो उठ गई
शाम को वो मुस्कराने महफिलों तक गई

सब बैठे थे कत्ल के बदख्वाह में
होश खो बैठे जब वो कातिलों तक गई

न जाने वो कौन सी चीज थी बेखबर सी
आँखों के रास्ते होकर दिलों तक गई

रात में जो दिख गया एक लौ टिमटिमाता सा
निगाहें उसी की चाह में मीलों तक गई

Leave a Reply